Homeअपना शहर ,
कोर्ट में जज के सामने खड़ा आरोपी कठघरे से कूदकर भागा

ग्वालियर। सेंट्रल जेल से गुरुवार को जिला सत्र न्यायालय में पेशी पर आया आरोपी वीर सिंह जाटव ने मौका मिलते ही हाथ में बंधी रस्सी ढीली कर ली और कठघरे से कूदकर भाग गया। आरोपी के न्यायालय से भागने से हड़कंप मच गया। पुलिस जवानों ने पूरा कोर्ट तलाशा, लेकिन आरोपी पकड़ में नहीं आया।

सूचना मिलते ही पुलिस अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए। वीर सिंह को पकड़ने शहर में नाकाबंदी की गई, लेकिन कोई सफलता नहीं मिली। पुलिस ने आरोपी के नजदीकी लोगों पर दबाव बनाना शुरू कर दिया है।

डकैती की योजना बनाते हुए हथियार के साथ पकड़े गए वीर सिंह पुत्र रमेश जाटव निवासी हुरावली नर्मदा कॉलोनी को पुलिस लाइन के बल की निगरानी में गुरुवार को कोर्ट पेशी पर लाया गया।

 

वीर सिंह का नंबर आने पर पौने तीन बजे प्रधान आरक्षक महावीर शर्मा व आरक्षक दिनेश शर्मा ने कोर्ट में पेश करने के लिए उसे हवालात से बाहर निकाला और हाथ में रस्सी बांधकर विशेष न्यायाधीश उत्सव चतुर्वदी के समझ पेश करने ले गए।

पुलिस जवानों ने बंदी को रस्सी सहित कठघरे में खड़ा कर दिया। दोनों जवान उसकी निगरानी के लिए कठघरे के पास खड़े हो गए। 

 

 

वीर सिंह ने कठघरे में खड़े-खड़े जवानों की नजर बचाकर हाथ में बंधी रस्सी ढीली कर ली। आशंका है कि रस्सी पहले से ही ढीली बंधी थी, जो कि आसानी से हाथ से निकल गई। प्रधान आरक्षक महावीर लिखा-पढ़ी मेें लग गया और आरक्षक दिनेश शर्मा का ध्यान बंट गया।

 

मौका मिलते ही बंदी कठघरा कूदकर भाग गया। बंदी के भागने से हंगामा मच गया। बंदियों को हवालात में बंद कर कोर्ट पेशी पर आए जवान वीर सिंह की तलाश में जुट गए। पुलिस कस्टड़ी से बंदी के भागने की सूचना मिलते ही पुलिस अधिकारी भी कोर्ट पहुंच गए। 

बंदी के भागने पर यह दी सफाई

 

प्रधान आरक्षक महावीर शर्मा व आरक्षक दिनेश शर्मा ने बंदी के भागने के बाद अधिकारियों को सफाई देते हुए बताया कि वीर सिंह को कठघरे के अंदर करने के बाद वह उसकी निगरानी कर रहे थे, तभी विशेष न्यायाधीश ने 2 और आरोपियों को कस्टडी में लेने के निर्देश दिए।

दोनों ने कोर्ट के बाबू अरुण गुप्ता से कहा कि और फोर्स बुला लेते हैं। क्योंकि वह पहले से मुलजिम को लिए हुए हैं। बाबू के दबाव बनाने पर प्रधान आरक्षक नई आमद को हिरासत में लेने के लिए हस्ताक्षर करने चला गया। उस समय सिपाही दिनेश कठघरे के पास खड़ा था। शाम करीब 3 बजे बंदी कठघरे को कूदकर भाग गया। 

 

प्रकरण दर्ज

इंदरगंज थाना पुलिस ने प्रधान आरक्षक महावीर शर्मा की शिकायत पर आरोपी वीर सिंह के खिलाफ पुलिस कस्टडी से भागने का मामला दर्ज कर लिया है। इससे पहले वीर सिंह के खिलाफ आर्म्स एक्ट व डकैती की योजना बनाने के दो प्रकरण दर्ज हैं। 

 

आरोपी के घर दबिश दी

वीर सिंह के भागने की सूचना मिलते ही पुलिस हरकत में आ गई। पुलिस ने वीर सिंह को पकड़ने के लिए तत्काल उसके नर्मदा कॉलोनी स्थित उसके किराए के मकान पर दबिश दी, लेकिन आरोपी घर नहीं पहुंचा। पुलिस उसके घर की निगरानी कर रही है।

 

इसके साथ ही वीर सिंह के नजदीकी लोगों को चि-त कर पुलिस उनके घरों पर दबिश दे रही है। शहर की नाकाबंदी कर दी गई है। शहर से बाहर जाने वाली बसों व भारी वाहनों को चेक किया जा रहा है। इसके अलावा स्टेशन व बस स्टैंड की निगरानी शुरू कर दी है। एसपी ने आरआई को जवानों की चूक का पता लगाने के लिए जांच करने के निर्देश दिए हैं। 

वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कराई जा रही है पेशी

 

कोर्ट पेशी पर बंदियों के भागने की घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए कोर्ट व जेल को कैमरों से कनेक्ट कर वीडियो कांफ्रेंसिंग की व्यवस्था की जा रही है। ग्वालियर सेंट्रल जेल से संगीन वारदातों के बंदियों की कोर्ट पेशी वीडियो कांफ्रेंसिंग से कराई जा रही है। कैमरों की संख्या बढ़ाकर जेल से ही सभी बंदियों की कोर्ट पेशी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कराई जाएगी।

Share This News :