Homeअपना शहर ,
2 लाख पाने के लिए विवाहिता बनी विधवा, ऐसे खुला राज

ग्वालियर। मुख्यमंत्री कल्याणी विवाह सहायता योजना में विधवाओं के पुनर्विवाह पर मिलने वाली 2 लाख रुपए की आर्थिक सहायता पाने एक विवाहिता ने खुद को विधवा बता दिया।

महिला ने सहायता राशि पाने के लिए पहले तो पति का मृत्यु प्रमाण पत्र लगाया फिर उसी से पुनर्विवाह के प्रमाण पत्र पेश किए।

यह घटना जून 2019 न्यू कलेक्ट्रेट कार्यालय की है। जब इस मामले की जांच की गई तो प्रमाण पत्रों में कुछ कमी नजर आई। मामले में जांच करने पर दस्तावेज जाली होने और सहायता राशि हड़पने की योजना का खुलासा हुआ। जांच के बाद 1 अक्टूबर रात को पुलिस ने विश्वविद्यालय थाना ने आरोपित महिला के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया है।

 

उल्‍लेखनीय है कि संजय नगर गोल पहाड़िया जनकगंज निवासी चांदनी गौतम पत्नी भीमशरण गौतम कुछ माह पूर्व खुद को विधवा बताकर पुनर्विवाह करने की बात बताई थी। उसने आवेदन कर मुख्यमंत्री कल्याणी विवाह सहायता योजना के तहत मिलने वाले 2 लाख रुपए की सहायता चाही। जिसके लिए उसने पति की मृत्यु व पुनर्विवाह का प्रमाण पत्र भी लगाया। इसके बाद आवेदन जांच में आ गया।

अभी महिला को सहायता मिलने वाली थी तभी एक गुमनाम शिकायत पहुंची, जिसमें महिला की सारी असलियत का खुलासा किया गया। शिकायत आते ही महिला द्वारा दिए गए आवेदन और साथ में लगाए गए दस्तावेजों की जांच की गई। जांच में पाया गया कि प्रमाण पत्र जाली हैं।

 

इस पर कलेक्ट्रेट से मामले की सूचना आगे की कार्रवाई के लिए पुलिस अधीक्षक कार्यालय व विश्वविद्यालय थाना पुलिस को दी गई। पुलिस ने इस आवेदन पर लंबी जांच करने के बाद आरोपित महिला चांदनी के संबंध में पाया कि उसने विधवा न होते हुए योजना का लाभ लेने कूटरचित दस्तावेज का उपयोग किया। जिस पर उसके खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर लिया गया है।इस मामले को लेकर क्षेत्र में चर्चाओं का दौर आरंभ हो गया है।

Share This News :