Homeदेश विदेश,प्रमुख खबरे,slider news,
नरेंद्र मोदी के 6 पॉइंट्स, 3 गुना बड़ा वादा, सहमति को बताया जरूरी तो कांग्रेस को कोसा भी

18वीं लोकसभा के पहले संसद सत्र का पहला दिन कई मायनों में बिल्कुल अलग था. आज जहां नवनिर्वाचित सांसदों ने शपथ ग्रहण की, वहीं नई ताकत के साथ आए विपक्षी दल नीट और नेट एग्जाम पेपर लीक सहित कई मुद्दों पर सरकार से भिड़ने के मूड़ में दिखाई दिए. संसद में जहां अंदर सभी सांसदों का शपथ ग्रहण समारोह चल रहा था, वहीं विपक्षी सांसद संसद के बाहर हाथों में तख्तियां लेकर हंगामा कर रहे थे.

संसद सत्र से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मीडिया को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि दुनिया का सबसे बड़ा चुनाव अच्छी तरह से सम्पन्न होना हर भारतवासी के लिए गर्व की बात है. पीएम मोदी ने मीडिया के सामने कई मुद्दों पर चर्चा की. प्रस्तुत है उनके संबोधन के चुनिंदा अंश-

1. प्रधानमंत्री ने कहा कि संसदीय लोकतंत्र में आज का दिन गौरव मय है, यह वैभव का दिन है. आजादी के बाद पहली बार हमारे अपने नए संसद में यह शपथ हो रहा है, अब तक ये प्रक्रिया पुराने संसद में होती थी.

2. पीएम मोदी ने कहा- कल 25 जून है, 50 साल पहले इसी दिन संविधान पर काला धब्बा लगा दिया गया था. हम कोशिश करेंगे कि देश में कभी भी ऐसी कालिख न लग सके.

3. लगातार तीसरी बार देश के प्रधानमंत्री बने नरेंद्र मोदी ने कहा कि आजादी के बाद दूसरी बार किसी सरकार को लगातार तीसरी बार देश की सेवा करने का अवसर मिला, यह अवसर 60 साल बाद आया है जो कि गौरव की बात है.

4. उन्होंने कहा- हम मानते हैं सरकार चलाने के लिए बहुमत होता है लेकिन देश चलाने के लिए सहमति बहुत जरूरी होती है.

5. प्रधानमंत्री ने कहा कि देश की जनता ने हमें तीसरी बार अवसर दिया है. हमारी जिम्मेदारी तीन गुना बढ़ गई है… इसलिए मैं देशवासियों को भरोसा देता हूं कि अपने तीसरे कार्यकाल में हम तीन गुना मेहनत करेंगे और तीन गुना परिणाम प्राप्त करेंगे.

6. उन्होंने कहा कि देश की जनता को नाटक, हंगामा नहीं चाहिए. देश को नारे नहीं, substance चाहिए. देश को एक अच्छा विपक्ष चाहिए, एक जिम्मेदार विपक्ष चाहिए.

Share This News :