Homeवायरल न्यूज़,
अब वैष्णो देवी भवन से भैरव मंदिर की यात्रा होगी आसान

कटड़ा. श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड इस महीने श्रद्धालुओं को केबल कार का तोहफा देने जा रहा है। इससे वैष्णो देवी भवन से भैरव मंदिर की यात्रा करना काफी आसान हो जाएगा। दिव्यांग, बुजुर्ग व बीमार श्रद्धालु भवन से भैरो घाटी तक आसानी से पहुंच सकेंगे।

वर्तमान में मां वैष्णो देवी के करीब 40 फीसद श्रद्धालु ही वैष्णो देवी के दर्शन के बाद भैरो मंदिर तक पहुंच पाते हैं। इसी को देखते हुए वैष्णो देवी भवन पर रोपवे केबल कार का तकनीकी ट्रायल किया गया, जो सफल रहा।

श्राइन बोर्ड ने वर्ष 2011 में केबल कार परियोजना शुरू की थी, जो इसी माह पूरी होने जा रही है। बुधवार को दोनों केबल कार (अप व डाउन) का तकनीकी ट्रायल किया गया। विशेषज्ञ और इंजीनियरों की देखरेख में ट्रायल करीब आधा घंटा चला।

ट्रायल से पहले विशेषज्ञ और इंजीनियरों ने सूक्ष्मता से जांच-पड़ताल की। ट्रायल के दौरान वैष्णो देवी भवन पर बैटरी कार स्टैंड के पास कुछ देर के लिए यात्रा को रोका गया ताकि कोई हादसा न हो, लेकिन ट्रायल सफल रहा। इस दौरान परियोजना की देखरेख कर रहे श्राइन बोर्ड के एडिशनल सीईओ डॉ. एमके कुमार के साथ श्राइन बोर्ड के अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

डॉ. कुमार ने बताया कि तकनीकी ट्रायल सफल रहा। जल्द ही विशेषज्ञ और इंजीनियर इसका पूर्ण ट्रायल करेंगे ताकि श्रद्धालुओं को जल्द यह सेवा मिल सके। करीब 60 करोड़ रुपये की इस परियोजना को पूरा करने का जिम्मा गारबंटा एजी स्विट्जरलैंड व दामोदर रोपवे एंड इंफ्रा लिमिटेड इंडिया संभाले हुए हैं। सूत्रों की मानें तो श्राइन बोर्ड नए ताराकोर्ट मार्ग के साथ ही इस महत्वपूर्ण परियोजना का शुभारंभ 19 मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों करवा सकता है। इसको लेकर युद्धस्तर पर तैयारियां जारी हैं।

परियोजना की विशेषताएं

 

 

 

 

 

    • दोनों केबल कार और कलपुर्जे स्विट्जरलैंड से आयातित किए गए हैं।

 

 

 

 

    • एक केबल कार में करीब 45 श्रद्धालु सफर कर सकेंगे।

 

 

 

 

    • दिव्यांगों के बैठने के लिए विशेष सुविधा इस केबल कार में होगी।

 

 

 

 

    • केबल कार वैष्णो देवी भवन से भैरो घाटी तक चार मिनट का समय लेगी।

 

 

 

 

    • पूरी तरह से वातानुकूलित इस केबल कार में प्राथमिक चिकित्सा भी उपलब्ध होगी।

 

 

 

 

    • वैष्णो देवी भवन से भैरो घाटी आने-जाने के लिए प्रति श्रद्धालु 100 रुपये किराया लिया जाएगा।

 

 

 

 

  • चार साल तक के नन्हे श्रद्धालुओं के लिए यह सेवा निःशुल्क उपलब्ध होगी।

Share This News :